इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव के पांचवे संस्करण का आयोजन

इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव के पांचवे संस्करण का आयोजन

इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव के पांचवे संस्करण का आयोजन

 

No.PR-192
February 12, 2016
New Delhi

 

पीएचडी चैम्बर ऑफ़ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के द्वारा इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव के पांचवे संस्करण का आयोजन
 

जयपुर, 12 फ़रवरी। राज्य से राज्य सभा के सदस्य अवं पूर्व केंद्रीय मंत्री विजय गोयल राज्य में विरासत की सार संभल में हर नागरिक को अपनी और से   योगदान देने पर बल दिया I उन्होंने कहा की केवल सरकार या सरकारी संस्थायें विरासत को बचाये नहीं रख सकती और हमारी धरोहरों को बचने के लिए पूरे समाज पर दायिेत्व डालना चाहिए I गोयल शुक्रवार को एस एम एस कन्वेंशन सेंटर में पीएचडी चैम्बर द्वारा भारत सरकार के पर्यटन मंत्रालय और राज्य के  पर्यटन विभाग के सहयोग से आयोजित पांचवे इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव में विशिष्ट अतिथि के रूप में बोल रहे थे इस सम्मलेन में स्वच्छ सुन्दर और सशक्त भारत पर चर्चा की गई अपने भाषण में गोयल ने कहा की राजस्थान अपने धरोहरों की विशिस्त्था से न  सिर्फ देसी बल्कि विदेशी पर्यटक आकर्षित करता रहा है और अब राज्य में पर्यटन का आधारभूत ढांचा भी मजबूत हो रहा है किन्तु इसके साथ ही पर्यटकों की संख्या में भी निरंतर वृद्धि होना भी आवश्यक  है  तभी हमारा पर्यटन व्यवसाय समृद्ध होगा I
 

राजस्थान टूरिज्म के डायरेक्टर अनिल कुमार चपलोत ने राजस्थान की विरासत और धरोहरों के बारे में जानकारी देते हुए कहा की  राजस्थान में पर्यटन के क्षेत्र में असीम संभावनाएं है उन्होंने राजस्थान की नई पर्यटन के विषय में भी जानकारी दी और कहा की राजस्थान के होटल  व्यवसाय और पर्यटन  के विकास में नई नीति काफी मददगार साबित होगी I
 

इस इंडिया हेरिटेज टूरिज्म कॉन्क्लेव के पांचवे संस्करण में हेरिटेज होटल तथा पर्यटन व्यवसाय से जुड़े हुए लगभग 300 प्रतिनिधियों ने भाग लिया I पीएचडी चैम्बर के उपाध्यक्ष श्री अनिल खेतान ने अपने स्वागत भाषण में कहा की राज्य में ऐतिहसिक स्मारकों और  धरोहरों का अतुल्य भंडार है और ऐसा किसी भी देश के एक राज्य में ऐसी विपुल सम्पदा नहीं है राज्य को इस ऐतिहसिक धरोहरों को बचाये जाने के लिए दीर्घकालीन योजना बनाई जानी चाहिए ताकि पर्यटन का उद्योग के रूप में विकास हो सके और अधिक से अधिक लोगों के  उपलब्ध हो सकेI
 

खेतान ने कहा की राज्य में कई स्थानों पर कई ऐतिहसिक स्मारके  और  धरोहर बिखरी पड़ी हैं जिसे चिन्हित कर विक्षित किये जाने की आव्श्यकता है जिससे पूरे राज्य में पर्यटन का विकास होगा I
 

विशिष्ठ अतिथि और कश्मीर के राज्यपाल के सलाहकार परवेज दीवान ने कहा कि भारत में भी पर्यटन के क्षेत्र में विकास   किया है और भारत पर्यटन के क्षेत्र में विकसित देशों में 53 वां स्थान रखता है लेकिन भारत को अपनी विविधता स्मारकों, धरोहरों और संस्कृति के बल पर प्रथम 10 में स्थान बनाना चाहिए हमें अधिक से अधिक विदेशी पर्यटकों को आकर्षित करना चाहिए और इसके लिए प्रचार तथा आधारभूत ढांचे को और मजबूत करना चाहिए I
 

दीवान ने जो पूर्व केंद्रीय पर्यटन के सचिव भी रह चुके हैं ने कहा की राज्य में हेरिटेज होटल ही जो सम्पदा है वह अतुलनीय है और मध्य प्रदेश तथा गुजरात इसका अनुसरण कर रहे हैं उन्होंने कहा की देश में 2025 तक 15 करोड़ विदेशी पर्यटक आने की सम्भावना है और इसके साथ ही। देशी पर्यटकों में भी वृद्धि होगी इस कारण पर्यटन के विकास की विपुल संभावनाएं बढ़ गई उन्होंने पर्यटन स्थलों पर स्वच्छ्ता और सौंदर्यकरण पर बल दिया ताकि सशक्त भारत की  देश विदेश में एक स्वस्थ छवि बन सकती है I
 

इस अवसर पर पीएचडी चैम्बर की टूरिज्म समिति के चेयरमैन मुकेश गुप्ता ने बताया की चैम्बर ऐतिहसिक स्मारकों के संरक्षण बढ़ावे के साथ साथ मेडिकल, कल्चरल, एडवेंचर और आईटी टूरिज्म को बढ़ावा देने में विभाग के साथ कार्यरत है और यह देश में रोजगार  के बढ़ावे में सहयोग करेगा I
 

विशेष आमंत्रित बोस्निया और हर्जेगोविना के राज्यदूत साबित सुबासिक ने भारत के ऐतिहसिक स्मारको  और  धरोहरों की प्र करते हुए कहा की भारत अपने ऐतिहसिक सम्पदा और संस्कृति के कारण ही महान है उन्होंने इस अवसर पर कहा की उनका देश भारत के मुकाबले बहुत छोटा है लेकिन फिर भी उनके देश में पर्यटन की विपुल सम्भावना है उन्होंने अपने देश की पर्यटन स्थलों की एक वीडियो प्रस्तुति भी दी I
 

राजस्थान चैप्टर के चेयरमैन अजय डाटा ने कहा की पर्यटन राज्य का प्रमुख व्यवसाय है और राज्य के राजस्व में इसका बड़ा योगदान है उन्होंने कहा की राज्य में न सिर्फ  ऐतिहसिक स्थलों बल्कि धार्मिक पर्यटन के लिए भी पर्यटक आते है उन्होंने कहा की राज्य में विदेशी पर्यटकों से जहाँ विदेशी मुद्रा की आय होती है वहीँ देशी पर्यटकों से भी स्थाई और निरंतर राजस्व प्राप्त होता है अतः देशी पर्यटकों को भी लुभाने के लिए  प्रयास किये जाने चाहिए उन्होंने हाल ही में राज्य सरकार द्वारा किये गए पर्यटन के प्रचार प्रसार की प्रसंशा की  और आशा व्यक्त की के इससे देशी विदेशी पर्यटकों की तीव्रता से वृद्धि होगी I
 

इस अवसर पर पीएचडी चैम्बर द्वारा  हेरिटेज इंडिया नामक पुस्तिका का विमोचन किया I
 

Ends.

Koteshwar Prasad Dobhal
Consultant (PR)